Show my Playlist

Malik Tun Dard katinde by Mahesh Chandar 03

25-Oct-2019

मालिक तूं दर्द कटींदे, कीन छॾींदें, हर हंधि हर हाल में रांवल रहिबरु थींदें. सिंधु जो अॻोणो शानु अजबु हो, राहत हुई ॼणु राज़ी रबु हो, रहंदो हिंदू मोमनि गॾु हो, हिक ॿिए खे ॾींदो सॾमें सॾु हो. मालिक तूं ... अॻु वारी अॼु उल्फ़त नाहे, मुल्क में साॻी मुहबत नाहे, दर्द सहण जी ताक़त नाहे, रहिजे जुदा कीअं जुरियत नाहे. मालिक तूं ... पीउ कीअं सहंदो पुट जी जुदाई, धन वारा किति कनि पिया गदाई, या रब कहिड़ी आफ़ति आई, तुंहिंजे मदद सां थींदी सणाई. मालिक तूं ... नाज़ जा पालियल सिंधी निमाणा, देसु छॾे परदेसु विकाणा, साधुनि सूफ़ियुनि छॾिया टिकाणा, घरड़ा छॾे अॼु घुमनि वेॻाणा. मालिक तूं ... सिंधी निमाणा रूअंदा हूंदा, ॻोड़िहनि सां मूंहुं धूअंदा हूंदा, धारियनि में कीअं सूहंदा हूंदा, पूर हज़ारें पीईंदा हूंदा. मालिक तूं ... चंदुर उमिरि शल वतन में गुज़िरे, वतन खां शल दुश्मनु बि न विछिड़े, जो दमु निबिरे वतन में निबिरे, दम निकरे त बि वतन में निकिरे. मालिक तूं ...


Comment:

Sindhi Radio Broadcast 24 hours, RadioSindhi.com
24 hour Sindhi broadcast
With variety of 7 stations

Play Sindhi Housie Online

WIN the Sindhian Magazine
WIN the Sindhian Magazine

Sindhi Keyboard online for typing in Sindhi Language Unicode
Sindhi Keyboard Arabic Unicode

Sindhi Videos

Sindhi Dictionary